क़र्ज़दार का तालमतोल करना








क़र्ज़दार का तालमतोल करना

⭕आज का सवाल नंबर ३२८०⭕

एक शख्स ने किसीको कर्ज़ दिया है, मक़रूज़ कर्ज़ अदा नहीं करता, और क़र्ज़ देने वाला बार बार माँगता है फिर भी तालमतोल करता है, उसका क्या हुक्म है?

🔵जवाब🔵

حامدا و مصلیا مسلما

बीला किसी शरई उज़्र के किसी की रक़म दबा लेना और बावजूद वुसअत और सहूलत के मुतालबे पर भी न देना शरीअत की निगाह में ज़ुल्म और हराम है।
लिहाज़ा मक़रूज़ को चाहिए के जल्द से जल्द क़र्ज़ अदा कर दें।

हज़रत अबू हुरैरा रदीअल्लाहु अन्हु रिवायत करते है के, रसूलल्लाह सल्लल्लाहु अलैहि वसल्लम ने इरशाद फ़रमाया के: मालदार शख्स का तालमतोल करना ज़ुल्म है।
📕मिश्कात शरीफ १/२५३

एक दूसरी हदीस में हुज़ूर सल्लल्लाहु अलैहि वसल्लम ने इरशाद फ़रमाया के: मालदार आदमी का तालमतोल करना उस की इज़्ज़त और सजा को हलाल कर देता है।
हज़रत अब्दुल्लाह इब्ने मुबारक रदी. फरमाते है के यानि ज़बान से ला’नत और मलामत -दांत डपट की जाएगी और सजा ये है के उसे कैद कर दिया जाएगा।
📘तिर्मिज़ी शरीफ २/४३

📚फ़तावा दारुलउलूम ज़करिया ५/४८७
و الله اعلم بالصواب

✍🏻मुफ़्ती इमरान इस्माइल मेमन
🕌उस्ताज़े दारुल उलूम रामपुरा, सूरत, गुजरात, इंडिया.